🌺सहस्रमहावास्तू🌺 वास्तुकथा:१ जब कोई व्यक्ति प्रदूषित भवनमें सालोसाल रहता है,तब उस अशुभ उर्जाका प्रभाव व्यक्तिके अंत:करण चतुष्टयमें विकार-रोग-क्षति पहुँचाता है।तब इस प्रभाव को घटानेकेलिये योग-वास्तू-ज्योतिष-आयुर्वेद-मंत्रशास्त्रके संयुक्त उपचार पध्दतीका अवलंब करना चाहिये।इस प्रकारसे संयुक्त उपचार पध्दतिका अवलंब करनेसे वैश्विक अलौकिक उर्जा का संस्कार जीवनमें परिवर्तन लाता है और फिर वास्तुमें किये गुणोत्कर्षका परिणाम शीघ्र गतीसे प्रारंभ हो जाता है।संयुक्त दृष्टिकोण यही सहस्रमहावास्तु पध्दतीका एक अनोखा विशेष है। 🌈डॉ सहस्रबुध्दे 💐९८२२०११०५०💐


Popular posts from this blog

Ratnadhyay

Shikhi Devta